भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Definitional Dictionary of Petrology (English-Hindi)(CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

< previous1234567895657Next >

abioglyph

एबायोग्लिफ :
निक्षेपण के दौरान संस्तर सतहों पर निर्मित अजैविक उत्पत्ति के अनियमित चिह्न ।

ablation till

अपक्षरण गोलाश्मी मृत्तिका :
गोलाश्मो मृत्तिका जिसमें प्रायः मृत्तिका की मात्रा बहुत कम होती है । यह बर्फ की ऊपरो सतह पर हिमनद के गलने या वाष्पन से उत्पन्न जल द्वारा लाये गये पदार्थों के एकत्रित होने से बनती है ।

abrasive sand

अपघर्षी बालू :
कठोर खनिजों जैसे क्वार्ट्ज, गार्नेट आदि के कोणीय कणों से संघटित एक प्राकृतिक बालू ।

abysmal

नितलीय :
महासागरों के वितलीय (abyssal) भाग से संबंधित या उसके लक्षणों से युक्त ।

abysmal sea

नितल सागर :
समुद्र का वह भाग जो महासागरी द्रोणियों को घेरे रहता है ।

abyssal

वितलीय, वितल, अतल :
(क) पृथ्वी के भोतर अत्यधिक गहराइयों से संबंधित ।
(ख) समुद्र की उन अत्यधिक गहराइयों (वितलांचल) में स्थित या उनसे संबंधित जहां प्रकाश बिल्कुल नहीं पहुंच पाता ।

abyssal assimilation

वितल स्वांगीकरण :
पृथ्वी की अत्यधिक गहराइयों में मैग्मा द्वारा शैलों का स्वांगीकरण ।

abyssal differentiation

वितलीय विभेदन :
पृथ्वी के गर्भ (interior) में मैग्मा का दो या अधिक भागों में बट जाना । इस प्रक्रिया में मैग्मा के प्रत्येक भाग से एक विशेष आग्नेय शैल निर्मित होता है ।

abyssal injection

वितलीय अंतःक्षेपण :
पृथ्वी की अत्यधिक गहराइयों में उत्पन्न मैग्मा का गभीरस्थ (deep seated) संकुचन-विदरों से होकर उपरिशायी भूपर्पटी में प्रविष्ट होने का प्रक्रम ।

abyssal rock

वितलीय शैल :
गभीरस्थ आग्नेय शैलों के लिए प्रयुक्त एक सामान्य शब्द ।

abyssal sediments

वितलीय अवसाद :
समुद्रों के गभीर (deep) एवं वितलीय क्षेत्रों में (1000 मीटर से अधिक गहराई में) संचित अबसादी निक्षेप ।

abyssal zone

वितल क्षेत्र :
1000 फ़ैदम की गहराई से भी नीचे समुद्र का वह भाग जहां सूर्य का प्रकाश बिल्कुल नहीं पहुंच पाता और तापक्रम सर्वदा हिमन के आस-पास रहता है । वितलोय अधस्तलों से प्राप्त जीवों के कवचों तथा अस्थियों से पता चलता है कि इन गहराइयो में कुछ विशेष प्रकार के ही जीव रह सकते हैं ।

abyssokonite

एबिसोकोनाइट :
कैलसियमी सिंधुपंक (ooze) से निर्मित शुद्ध अथवा मार्लमय (marly) चूनापत्थर जो समुद्र के गहरे भागों में मिलता है ।

abyssolith

एबिसोलिथ :
एक बहुत बड़े आकार का संभागी अन्तर्वेधी (intrusive) शैलपिण्ड जो फेल्सिक प्रकृति का होता है । इसका विस्तार भूपर्पटी (earth crust) के आधार तक रहता है ।

accessory ejecta

उपबहिःक्षेप, गौण बहिःक्षेप :
पहले से पृथ्वी की सतह पर उद्गीर्ण (erupted) तथा निक्षेपित ज्वालामुखी उत्पादों पर अनुगामी ज्वालामुखी क्रिया के प्रभाव से निर्मित विभिन्न प्रकार के ज्वलखण्डाश्मी (pyroclastic) पदार्थ ।

accessory minerals

उपखनिज, गौणखनिज :
शैलों में बहुत कम मात्रा में विद्यमान वे खनिज घटक जिनकी उपस्थिति या अनुपस्थिति की उपेक्षा कर देने से शैल की परिभाषा या वर्गीकरण में कोई अन्तर नहीं पड़ता ।

accidental ejecta

संयोगी बहिःक्षेप :
किसी मैग्मी उद्गार के दौरान ग्रीवा तथा द्वार को निर्मित करने वाले ज्वालामुखी शैलों या अन्य प्रकार के आग्नेय, कायांतरित अथवा अवसादी शैलों से व्युत्पन्न बहिःक्षिप्त (pyroclastic) पदार्थ । इन पदार्थों का उद्गीर्ण मैग्मा से कोई जननिक संबंध नहीं होता ।

accidental inclusion

आगंतुक अंतर्वेश :
आग्नेय शैलों में पाये जाने वाले अपरक्रिस्टलों (xenocrysts) अथवा अपराश्मों (xenoliths) के लिए प्रयुक्त शब्द । जिन शैलों में ये अंतर्वेश मिलते हैं उनसे इनका कोई जननिक संबंध नहीं होता ।

accretion

अभिवृद्धि :
वह प्रक्रम जिसके द्वारा अकार्बनिक पिंड बाहर की ओर नये कणों के जमाव के कारण और भी अधिक बड़े हो जाते हैं ।

accretionary lapilli

अभिवर्धी लैपिली :
25 मि.मी. से 85 मि.मी. तक व्यास वाले गोलाकार अथवा कुछ-कुछ चिपटे से पंक-कंदुक जो किसी लैपिली या बालुकाकण के चारों ओर निर्मित सूक्ष्म अथवा स्थूल ज्वालामुखीय भस्म के संकेन्द्री परतों से संघटित होते हैं । इनकी उत्पत्ति ज्वालामुखी उद्गार के वेग से धरती पर अतिसूक्ष्म कणों के घूर्णन से होती है अथवा उद्गारी बादलों से गिरते हुए जल के साथ अतिसूक्ष्म भस्म या धूलि के कणों के मिश्रण से होती है ।
< previous1234567895657Next >

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App